मैच फ़िक्सिंग 2000 – Match fixing 2000 – Season 2

मैच फ़िक्सिंग 2000 – Match fixing 2000 - Season 2, Part 20

July 3, 2020

इस अंक में आगे जो हुआ उस को बताना शुरू करते है।

1. जगमोहन डालमिया को आई सी सी ने फाइनेंस कमेटी से हटा दिया जिस का अर्थ यह था के अब जगमोहन डालमिया वित्त कमेटी की बैठक में भाग नहीं ले पाएंगे.
2. जगमोहन डालमिया के साथ यह बात होना बहुत बड़ी बात थी क्योंकि आई सी सी उस समय 2003 और 2007 में होने वाले वर्ल्ड कप के टीवी प्रसारण अधिकार एक ही समय बेचने जा रहा था.
3. आई सी सी ने लंदन में जो बैठक की थी उस के कुछ दिन बाद आई सी सी ने एक और बैठक की जिसमें आई सी सी के बड़े अधिकारी तो थे ही साथ में पाकिस्तान,वेस्टइंडीज,साउथ अफ्रीका के भी अधिकारी शामिल हुए.
4. जगमोहन डालमिया ने कहा के जो खबर उन के बारे में कही जा रही है वो गलत है.जगमोहन डालमिया का कहना था के अगर ऐसा होता तो जब लंदन के बाद आई सी सी की एक और बैठक हुई तो वो उसमें शामिल कैसे हुए.यह बात कहने का मतलब था के जगमोहन डालमिया उस बैठक में था और वो सलाह भी दे रहा था.
5. दूसरी तरफ मोहम्मद अजहरुद्दीन इस केस में फसता ही जा रहा था क्योंकि शारजाह में जो फ़ोन वाली बात मोहम्मद अजहरुद्दीन के साथ जुड़ रही थी वो अब सच होती दिखाई दे रही थी क्योंकि दुबई में यह बात साबित हुई के शारजाह के मैच में जिस फ़ोन का मोहम्मद अजहरुद्दीन ने इस्तेमाल किया वो कंपनी का फ़ोन था.
6. आई सी सी ने जगमोहन डालमिया का पक्ष लेते हुए कहा के जिस प्रकार की खबरे सुनने को मिल रही है आई सी सी ने जगमोहन डालमिया के साथ ऐसा कुछ भी नहीं किया.आई सी सी के बड़े अधिकारी ने कहा के बैठक में काम में ईमानदारी की बात हुई थी और कुछ नहीं कहा गया.
7. इन सब के बीच 1983 के वर्ल्ड कप फाइनल की बात भी सामने आई जिस में यह कहा जा रहा था के 1983 के वर्ल्ड कप का फाइनल मैच फिक्स था.यह कहा जा रहा था के भारत और वेस्टइंडीज का फाइनल मैच फिक्स कर खेला गया जिसमें वेस्टइंडीज हारा.इस बात को सुनते ही वेस्टइंडीज बोर्ड ने कहा के यह बात सच नहीं है.
8. इन बातो के बीच एक बार फिर जगमोहन डालमिया पर सवाल खड़े हो गए,बात थी 1998 के टीवी प्रसारण की जिस पर अभी तक कुछ साफ नहीं था.इस सच को जानने के लिए इंग्लैंड बोर्ड ने कहा के आई सी सी एक और बैठक बुलाये जिसमें जगमोहन डालमिया शामिल न हो.बोर्ड का कहना था के उस बैठक में जगमोहन डालमिया के और मसलो पर भी बात होनी चाहिए.
9. जब यह बात जगमोहन डालमिया को पता लगी तो डालमिया ने कहा के यह क्या चल रहा है,कभी कहा जाता है के जगमोहन डालमिया ने नुक्सान किया,कभी कहते है फायदा किया.सच क्या है यह तो बता दो.

इस अंक में जगमोहन डालमिया और आई सी सी की बात सबसे ऊपर रही.आरोप लगते रहे पर सच का पता न चला.यह दूसरे सीजन का आखरी अंक है.इस अंक में इतना ही आगे केस को जारी रखेंगे।

मैच फ़िक्सिंग 2000 – Match fixing 2000 - Season 2, Part 19

June 22, 2020

इस अंक में आगे जो हुआ उस को बताना शुरू करते है।

1. पाकिस्तान के एक खिलाडी ने कहा के यह जो आई सी सी की बैठक हुयी है उसका कोई फायदा नहीं हुआ न तो किसी खिलाड़ी पर कोई कार्रवाई हुई और न कोई सबूत पेश किया गया।एक और कमेटी बनाकर इस केस को आगे कर दिया।
2. शेन वॉर्न और मार्क वॉ पर ऑस्ट्रेलिया बोर्ड ने कार्रवाई करने से मना कर दिया। इन दोनों पर पैसा लेने का इलज़ाम लग रहा था और ऑस्ट्रेलिया बोर्ड ने इस बात को वही समाप्त कर दिया।
3. आई सी सी ने भी ऑस्ट्रेलिया बोर्ड के साथ इस पर कोई बात न की और लग रहा था के यह दोनों बोर्ड इस बात को दबाना चाहते है।
4. इन सब के बीच एक खबर फिर से मोहम्मद अजहरुद्दीन के बारे मे आई। पुलिस ने कहा के उनके पास मोहम्मद अजहरुद्दीन की बातचीत की एक टेप है जिसमें वो दिल्ली के एक क्रिकेटर से बात कर रहा है।पुलिस का कहना था के यह शारजाह मे खेले गए टूर्नामेंट के समय का टेप है।
5. मोहम्मद अजहरुद्दीन के बारे मे यह बात और भी बड़ी हो गयी जब मुंबई पुलिस ने भी यह दावा कर दिया के उनके पास 1996 के टाइटन कप के दौरान मोहम्मद अजहरुद्दीन की किसी से बातचीत करने की टेप है।
6. मुंबई पुलिस ने इस टेप के बारे मे कुछ ज्यादा न बताया और कहा के केस अब सी.बी.आई के हाथ मे है तो वो यह टेप उनको दे देंगे जो भी कार्रवाई करनी होगी वो खुद करेंगे।
7. दूसरी तरफ कपिल देव ने अपने आप को निर्दोष बताया और कहा के यह सब आरोप जो उस पर लग रहे है वो गलत है।कपिल का कहना था के इन सब आरोपो के चलते उसका जीवन खराब हो रहा है।
8. कपिल देव पर लग रहे आरोप पर खेल मंत्री ने कहा के किसी पर आरोप लगाने से वो आदमी दोषी नहीं हो जाता उस पर लगाए जा रहे आरोप को साबित भी करना पड़ता है।
9. कपिल देव का साथ देने मे बहुत से क्रिकेटर आगे आ गए जिनका कहना था के कपिल देव पर लग रहे इल्जाम सही नहीं है।
10. दूसरी और आज के पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा के आई सी सी इस मामले मे कुछ ख़ास नहीं कर रहा और जो बात पाकिस्तान के साथ जुडी हो उस मे आई सी सी सख्ती से पेश आता है और जो बात ऑस्ट्रेलिया बोर्ड के साथ जुडी हो उस पर बात भी नहीं करता।

यह बातें अब आई सी सी की भूमिका पर सवाल खड़े कर रही थी।सब का कहना था के केस मे कोई सबूत तो पेश हो नहीं रहा, जब के बातें बहुत की जा रही है।इस अंक में इतना ही आगे केस को जारी रखेंगे।

मैच फ़िक्सिंग 2000 – Match fixing 2000 - Season 2, Part 18

June 15, 2020

इस अंक में आगे जो हुआ उस को बताना शुरू करते है।
1. जब पिछले अंक में कपिल देव का नाम आया था तब ही लगा था के अब यह केस बड़ा होने वाला है। बात तो बड़ी होनी ही थी क्योंकि कपिल देव भारत देश का एक जान माना नाम था।
2. इस बीच मनोज प्रभाकर भारत के एक बड़े मंत्री से मिला और सब ने यह माना के मनोज प्रभाकर ने कोलंबो वाली बात उस को बता दी है।
3. जब मनोज प्रभाकर से मीडिया ने बात की तो उसने कुछ भी बताने से इंकार कर दिया और कहा के केस देखने वाली टीम को वो सब कुछ बतायेगा।
4. कपिल देव ने कहा के यह सब आरोप है उसने कभी भी कोलंबो में मनोज प्रभाकर को ऐसा करने के लिए नहीं कहा और न ही पैसे की बात की है। कपिल देव ने कहा के वो इस पर चुप नहीं रहेगा।
5. साउथ अफ्रीका ने अपने देश में हैंसी क्रोन्ये मामले की जांच के लिए एक टीम बनाई।
6. कपिल देव को पता था के आई एस बिंद्रा इस काम में उसका नाम ले रहा है इस लिए कपिल देव ने आई एस बिंद्रा को एक नोटिस भेजा।
7. कपिल देव ने भारत के क्रिकेट बोर्ड को कहा था के भारत की टीम एशिया कप में न खेले। इस केस में जब कपिल का नाम आने लगा तो उसकी इस बात को बोर्ड ने मानने से इंकार कर दिया।
8. ऑस्ट्रेलिया के एक बड़े खिलाडी ने कहा के अगर मैचों में से मैच फिक्सिंग बंद करनी है तो मैचों की गिनती को कम करे।
9. पाकिस्तान में भी इस मैच फिक्सिंग की जांच चल रही थी और उनका कहना था जिस भी खिलाडी का नाम मैच फिक्सिंग में बोल रहा है उस से पूरी पूछताछ चल रही है।

केस तो शुरू हुआ था साउथ अफ्रीका के खिलाडी से परन्तु अब यह भारत में ही घूम रहा है। भारत के पूर्व खिलाडी एक दूसरे के ऊपर ही आरोप लगा रहे थे।इस अंक में इतना ही आगे केस को जारी रखेंगे।

मैच फ़िक्सिंग 2000 – Match fixing 2000 - Season 2, Part 17

June 8, 2020

इस अंक में आगे जो हुआ उस को बताना शुरू करते है।
1. आई एस बिंद्रा लंदन में होने वाली बैठक में जाने के लिए तैयार था वो आई सी सी को लिखे पत्र की मंज़ूरी की प्रतीक्षा कर रहा था,आई एस बिंद्रा ने कहा के अगर आई सी सी उस की बात नहीं सुनता तो वो इन सब बातो को सबके सामने बता देगा।
2. आई सी सी ने बैठक होने से पहले जगमोहन डालमिया को टीवी प्रसारण अधिकार बेचने के आरोप से मुक्त कर दिया।
3. सी.बी.आई को मैच फिक्सिंग केस के लिए पूरी मंज़ूरी मिल गयी वो अब खुलकर इस केस पर जांच कर सकते थे।
4. आई सी सी ने आई एस बिंद्रा के पत्र को मंजूर नहीं किया और आई एस बिंद्रा को बैठक में न बुलाने का फैसला किया।
5. भारत के क्रिकेट बोर्ड ने कहा के इस केस के चलते अब वो खिलाड़ियों के लिए नया कोड ऑफ कंडक्ट बना रहे है जिस में मैच फिक्सिंग के ऊपर ज्यादा लिखा जायेगा। बोर्ड का कहना था के खिलाडी को पहले ही पता होना चाहिए के अगर उसने मैच फिक्सिंग की तो उस के साथ क्या होगा।
6. इस केस के बीच में स्कॉटलैंड से कुछ अधिकारी भारत आए और उन्होंने मैच फिक्सिंग पर दिल्ली पुलिस और सी.बी.आई से बात की।
7. आई सी सी ने कहा के जो खिलाडी मैच फिक्सिंग में दोषी पाए जाते है चाहे वो किसी भी देश से हो उन पर सख्त कारवाई की जाये और जो खिलाडी मैच फिक्सिंग में होने के बावजूद हमारी मदद करेंगे उन पर नर्मी की जाएगी।
8. आई एस बिंद्रा ने जो कहा तो वही किया। आई सी सी ने उसे बैठक में नहीं बुलाया और सी.एन.एन टीवी के प्रोग्राम में वो कह दिया जिस के बारे में किसी ने सोचा भी नहीं था। आई एस बिंद्रा ने कहा के मनोज प्रभाकर ने उसे बताया था के कोलंबो में खेले जाने वाले मैच से पहले कपिल देव ने मनोज प्रभाकर के सामने पैसे लेने का प्रस्ताव रखा था। मनोज प्रभाकर ने यह करने से मना कर दिया।
9. इस के बाद मनोज प्रभाकर ने साथ ही के कमरे में रह रहे खिलाडी नवजोत सिंह सिद्धू को इस बात की जानकारी दी।

यह बात होना कोई छोटी मोटी बात नहीं थी क्योंकि जिस प्रकार से इस में कपिल देव का नाम आया वो कोई आम बात थी ही नहीं।इस अंक में इतना ही आगे केस को जारी रखेंगे।

मैच फ़िक्सिंग 2000 – Match fixing 2000 - Season 2, Part 16

June 4, 2020

इस अंक में आगे जो हुआ उस को बताना शुरू करते है।

1. भारत क्रिकेट बोर्ड के अध्यक्ष ने घरेलू समस्या के चलते आई सी सी की होने वाली बैठक में हिस्सा न ले पाने की बात कही।क्रिकेट बोर्ड अध्यक्ष की जगह पर किसी और को भेजने का फैसला लिया गया।
2. आई एस बिंद्रा लंदन पहुंच गया और अपनी तरफ से आई सी सी को एक पत्र लिखकर आई सी सी की होने वाली बैठक में शामिल होने की इजाज़त मांगी।
3. आई एस बिंद्रा का कहना था के अगर आई सी सी उस को इस बैठक में शामिल करता है तो उसके पास मैच फिक्सिंग के जो भी सबूत है वो उनके सामने पेश कर देगा।
4. मनोज प्रभाकर ने कहा के उसने अपनी तरफ से मैच फिक्सिंग के बारे में जो कुछ उसे पता था उस की जानकारी भारत सरकार को दे दी है।
5. पाकिस्तान के क्रिकेट बोर्ड ने कहा के आई सी सी की बैठक से पहले वो अपनी रिपोर्ट पेश नहीं कर पाए इस के लिए उन्हें खेद है। पाकिस्तान बोर्ड ने कहा के वो इस रिपोर्ट को जल्द पेश कर इस पर कारवाई भी करना शुरू कर देंगे।
6. इस मैच फिक्सिंग केस में एक खबर श्रीलंका से भी आई के, 1992 में ऑस्ट्रेलिया की टीम ने श्रीलंका का टूर किया था तब श्रीलंका के तीन खिलाड़ियों को भारत के किसी सट्टेबाज़ ने पैसे देने की पेशकश की थी जिस को इन खिलाड़ियों ने लेने से मना कर दिया था।
7. इंग्लैंड के क्रिकेट बोर्ड ने पिछले अंक में कहा था के उन का कोई खिलाडी मैच फिक्सिंग में शामिल नहीं है। इस पर एक और बात सामने आई के इंग्लैंड का क्रिकेट बोर्ड इस केस को जल्द से जल्द दबाना चाहता है।इस लिए इस प्रकार की बातें कह रहा है।
8. इन सब बातो में सब से बड़ी बात सामने आई भारत के फिल्म जगत से। किशन कुमार का दुबई के अपराधी वर्ग से नाता सामने आ गया और यह कहा गया के किशन कुमार के अंडरवर्ल्ड के साथ संबंध है।
9. दिल्ली पुलिस ने कहा के मैचों से पहले किशन कुमार दुबई में फ़ोन करता था।
10. श्रीलंका के दो खिलाड़ियों ने इस खबर को गलत बताया के 1992 में उसको पैसे की पेशकश हुई थी।

इन सब बातो में सब से बड़ी बात थी किशन कुमार की क्योंकि दुबई से मैच फिक्सिंग के तार साफ़ दिखाई दे रहे थे। इस अंक में इतना ही आगे केस को जारी रखेंगे।

मैच फ़िक्सिंग 2000 – Match fixing 2000 - Season 2, Part 15

May 21,2020

इस केस की आगे वाली बातें आपको बताना शुरू करते है।

1. भारत के खेल मंत्री सुखदेव सिंह ढींढसा ने संसद में मैच फिक्सिंग केस को सी.बी.आई को सौंपने की बात कही।उनका कहना था के इस केस में अब सब जांच खुलकर हो तो ही कुछ पता चल पायेगा।
2. भारत के खेल मंत्री ने मैच फिक्सिंग केस के साथ साथ टीवी अधिकार बेचने के मामले को भी शामिल कर दिया।
3. खेल मंत्री ने सी.बी.आई को कहा के वो जिस प्रकार से चाहे जांच कर सकते है और उन पर किसी प्रकार का कोई दबाव नहीं होगा। सी बी आई को समय की भी छूट दी गई।
4. आई एस बिंद्रा ने सी.बी.आई से जांच को ठीक बताया और कहा के इन मामलो के साथ साथ मैचों की जांच भी सी.बी.आई से ही करानी चाहिए।
5. आई एस बिंद्रा ने कहा के वो अपनी तरफ से भी इस केस में पूरा सहयोग देगा और बहुत सी जानकारी जो उसके पास है वो सी.बी.आई को देगा।
6. इन सब बातो के बीच साउथ अफ्रीका ने अपने खिलाड़ियों के साथ नया अनुबंध किया और उसने मैच फिक्सिंग को भी शामिल किया और कहा के अब अगर कोई भी खिलाडी मैच फिक्सिंग में आता है तो उसका करियर वही समाप्त कर दिया जायेगा।
7. इस बीच आई सी सी ने अपनी तरफ से एक संदेश जारी किया के जो भी खिलाडी मैच फिक्सिंग में शामिल है वो आगे आये और जो उसको मालूम है वो बताये तो उसको माफ़ कर दिया जायेगा।
8. यह मामला इतना बड़ा हो गया के भारत के क्रिकेट बोर्ड ने अपनी ओर से सभी अखबारों में एक विज्ञापन दिया के भारत के किसी भी व्यक्ति के पास मैच फिक्सिंग की कोई भी जानकारी है तो वो सी.बी.आई को ज़रूर बताये।
9. यह बात होना एक बात तो साफ़ कर रही थी के भारत का क्रिकेट बोर्ड और सरकार इस मामले में लोगो की मदद मांग रहा था और इस जांच में लोगो से आगे आने की अपील कर रहा था।

अब तक तो इस केस में बातें ही हो रही थी अब इस में सी.बी.आई का आना हो गया था।अब कुछ पता चलने की आस जागने लगी।इस अंक में इतना ही आगे केस को जारी रखेंगे।

मैच फ़िक्सिंग 2000 – Match fixing 2000 - Season 2, Part 14

May 18,2020

इस केस की आगे वाली बातें आपको बताना शुरू करते है।

1. इंग्लैंड में रह रहे अजय शर्मा को मैच फिक्सिंग का दोषी कहा जा रहा था।यह बात इस केस के शुरू होने के समय से कही जा रही थी के अजय शर्मा का संबंध मोहम्मद अजहरुद्दीन से है।इस बात पर अजय शर्मा ने कहा के मोहम्मद अजहरुद्दीन उसका दोस्त है और इस लिए वो अक्सर मोहम्मद अजहरुद्दीन से बात करता रहता है परन्तु वो किसी भी मैच फिक्सिंग में शामिल नहीं है।
2. इंग्लैंड के क्रिकेट बोर्ड ने कहा के उन्होंने अपनी तरफ से मैच फिक्सिंग की जांच की है और इंग्लैंड के किसी भी खिलाडी की मैच फिक्सिंग में शामिल होने की बात सही नहीं है।
3. पाकिस्तान के क्रिकेट बोर्ड ने साउथ अफ्रीका क्रिकेट बोर्ड के पास डॉक्टर अली बाकर की शिकायत दर्ज़ कराई।पाकिस्तान बोर्ड के विरुद अली बाकर कुछ ज्यादा ही बोल रहा था।
4. ऑस्ट्रेलिया के क्रिकेट बोर्ड ने कहा जो भी खिलाडी मैच फिक्सिंग में शामिल हो उस पर खेल न खेलने का प्रतिबंध लगा दिया जाए।
5. सुखदेव सिंह ढींढसा ने जिस बैठक को करवाने की बात कही थी वो बैठक हो गयी और उस बैठक से बाहर आकर खेल मंत्री ने कहा के वो सरकार के पास इस मैच फिक्सिंग की बात करेंगे और इस को जल्द से जल्द हल कर दिया जायेगा।
6. मीडिया के साथ हुयी बातचीत में सुखदेव सिंह ढींढसा ने जो कहा उस पर मीडिया ने कहा के इस बैठक में कुछ ख़ास नहीं हुआ।इस लिए इस बैठक से कुछ नहीं होने वाला।
7. मोहम्मद अजहरुद्दीन के मुंबई के एक दोस्त अशरफ पटेल का कत्ल हो गया।यह मोहम्मद अजहरुद्दीन का वो दोस्त था जिसने एक बड़ी कंपनी के साथ हुए अनुबंध में बहुत मदद की थी।
8. इन सब बातो के बीच एक और बात सामने आ गयी। जगमोहन डालमिया पर यह इल्जाम लगा के उन्होंने टीवी अधिकार बेचने में भी कोई गलती की है।इस बात को सुनकर जगमोहन डालमिया ने कहा के यह आरोप गलत है और जो कोई भी ऐसी बातें कर रहा है उस पर कारवाई करेंगे।
9. डॉक्टर अली बाकर ने पाकिस्तान के क्रिकेट बोर्ड को एक पत्र लिखा और कहा के उसने कभी भी पाकिस्तान टीम का नाम मैच फिक्सिंग में होने की बात नहीं कही।

यह खेल मंत्री की बैठक और अली बाकर का पत्र सब कुछ इस केस में समय खराब करने जैसा ही लग रहा था।इस केस में अब तक कोई कानूनी बात नज़र नहीं आ रही थी।इस अंक में इतना ही आगे केस को जारी रखेंगे।

मैच फ़िक्सिंग 2000 – Match fixing 2000 - Season 2, Part 13

May 15,2020

इस केस की आगे वाली बातें आपको बताना शुरू करते है।

1. पाकिस्तान और बांग्लादेश के मैच को फिक्स कहना अब आम सी बात हो गयी थी।पाकिस्तान चाहता था के इस की जांच हो के यह मैच फिक्स था जा नहीं।परन्तु बाद में पाकिस्तान के एक बड़े मंत्री ने कहा के वो इस मैच का जिकर बार बार न करे और ऐसा कुछ न करे जिस से देश की बदनामी हो।
2. भारत के कोच ने कहा था (जिसको पिछले अंक में आपके सामने पेश किया गया था) के भारत को मैच फिक्सिंग केस के चलते क्रिकेट नहीं खेलनी चाहिए।इस के जवाब में भारत के क्रिकेट बोर्ड ने कहा के यह कपिल देव का खुद का कहना था इस लिए भारत की टीम पहले की तरह ही मैच खेलेगी।
3. आज के समय के पाकिस्तान के प्रधान मंत्री इमरान खान ने उस समय कहा था के आई सी सी एक बेकार संस्था है।इमरान का कहना था के क्रिकेट में इतना कुछ हो रहा है और आई सी सी क्या कर रहा है।इमरान ने यहाँ तक कहा के अगर आई सी सी को कोई मैच फिक्सिंग के बारे में कुछ बताता भी है तो वो कुछ नहीं करते।
4. पाकिस्तान के क्रिकेट बोर्ड ने आई सी सी को कहा के मई के महीने में होने वाली बैठक से पहले वो अपनी रिपोर्ट पेश करने के लिए तैयार है।
5. सुखदेव सिंह ढींढसा ने जिस बैठक को करवाने का जिकर किया था उस में सौरव गांगुली को भी आने के लिए कहा।परन्तु उस समय सौरव इंग्लैंड में था और वही से सौरव ने कहा के वो इस समय भारत आकर इस बैठक में हिस्सा नहीं ले पाएगा।
6. आई एस बिंद्रा ने कहा के जिस प्रकार से मैच फिक्सिंग की बातें ज़ोर पकड़ रही है उस हिसाब से इस केस को सी.बी.आई के हाथ में दे देना चाहिए।
7. इन सब के बीच जगमोहन डालमिया और अधिकारियों को साथ लेकर भारत के खेल मंत्री से मिले और मैच फिक्सिंग केस पर चर्चा की।
8. बोर्ड की मीटिंग हुई और कहा गया के आई एस बिंद्रा के पास जिस प्रकार के मैच फिक्सिंग के सबूत है वो बोर्ड के आगे पेश करे।बोर्ड ने कहा के जिन टूर्नामेंट में आई एस बिंद्रा मैच फिक्सिंग की बात कर रहा है उन मैचों में किसी भी मैच में मैच फिक्सिंग वाली बात नज़र नहीं आती।

इन सब बातो से यह बात तो साफ थी के भारत का क्रिकेट बोर्ड अब इस केस को खतम करना चाहता था क्योंकि बातो से तो कुछ होने वाला है नहीं था।इस अंक में इतना ही आगे केस को जारी रखेंगे।

मैच फ़िक्सिंग 2000 – Match fixing 2000 - Season 2, Part 12

May 13,2020

इस केस में आगे जो हुआ उस को बताना शुरू करते है।
1. सुखदेव सिंह ढींढसा ने कहा के आने वाले कुछ दिनों में वो बोर्ड के अधिकारियों,कुछ नए और पुराने खिलाड़ियों को एक साथ एक स्थान पर बैठक कर मैच फिक्सिंग के बारे में बात करेंगे।खेल मंत्री ने कहा के वो इस पर खुलकर चर्चा करने को तैयार है।
2. साउथ अफ्रीका के अली बाकर ने जब पाकिस्तान पर मैच फिक्सिंग में होने की बात कही तो पाकिस्तान के बोर्ड ने साउथ अफ्रीका के क्रिकेट बोर्ड से कहा वो सबूत पेश करे जिन मैचों में पाकिस्तान ने मैच फिक्सिंग की है।पाकिस्तान बोर्ड ने कहा के साउथ अफ्रीका बोर्ड हर बार बांग्लादेश और पाकिस्तान के बीच हुए वर्ल्ड कप मैच को फिक्स बताता है अगर उनके पास इस के कोई सबूत है तो वो हमारे सामने रखे।
3. आई एस बिंद्रा ने जगमोहन डालमिया को कहा के वो सब के सामने मैच फिक्सिंग पर बहस करे तब पता चलेगा कौन कितना सही है और कौन कितना गलत।
4. आई एस बिंद्रा ने कहा के वो मैच फिक्सिंग पर बहुत कुछ जानता है परन्तु उसको बोलने ही नहीं दिया जा रहा।
5. डॉक्टर अली बाकर ने कहा के आई सी सी जब बैठक करेगा तब सबके सामने वो जानकारी देगा के कौन कौन मैच फिक्सिंग में शामिल है।यह बात अप्रैल 2000 में कही गयी थी और आई सी सी मई के महीने में बैठक करने जा रहा था।
6. जब मैच फिक्सिंग केस शुरू हुआ था तब भारतीय टीम के कोच कपिल देव थे।उन्होंने कहा के इस मैच फिक्सिंग केस में सभी खिलाडी बहुत दवाब में है और इस के चलते भारत को मैच खेलना छोड़ देना चाहिए।
7. कपिल देव के कहने का यह मतलब था के जो खिलाडी मैच फिक्सिंग के बारे में सोच भी नहीं सकते उनको भी अलग नज़र से देखा जा रहा है,जिस के चलते खिलाडी और दर्शक एक दूसरे के सामने है।
8. कुछ अखबारो ने कपिल देव को भी मैच फिक्सिंग में शामिल बताया,जिस के चलते कपिल देव ने गुस्से में आकर कहा के यह लोग किसी पर भी इल्ज़ाम लगा देते है।कपिल देव ने कहा के यह उन पर आरोप है और वो चुप नहीं रहेंगे।
9. आई सी सी ने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड से कहा के मई में होने वाली बैठक से पहले वो अपनी रिपोर्ट पेश करे के मैच फिक्सिंग में सच क्या है।

यह बाते होना इस मामले में कोई बड़ी बात नहीं थी क्योंकि जब आरोप लगने शुरू हो जाये तब ऐसा ही होता है।इस अंक में इतना ही आगे केस को जारी रखेंगे।

मैच फ़िक्सिंग 2000 – Match fixing 2000 - Season 2, Part 11

May 11,2020

इस अंक में आगे जो हुआ उस को बताना शुरू करते है।

1. यह मैच फिक्सिंग मामला साउथ अफ्रीका के कप्तान से शुरू हुआ था और उस को पकड़ा गया था भारत में।इस के चलते मीडिया वालो ने बहुत सी खबरे अपनी तरफ से पेश करनी शुरू कर दी थी।मीडिया का कहना था के इस केस के चलते भारत और साउथ अफ्रीका के रिश्ते खराब हुए है।इन सब बातो को दोनों देशो ने गलत बताया।
2. अली बाकर ने वर्ल्ड कप के मैचों के फिक्स होने की बात कही थी और उस में एक मैच था पाकिस्तान बनाम बांग्लादेश जिस में पाकिस्तान बांग्लादेश से मैच हार गया था और उसी समय से ही इस मैच को फिक्स कहा जाने लगा।इस बात को सुनते ही बांग्लादेश के क्रिकेट बोर्ड ने इस बात को गलत बताया और कहा के यह उनके देश पर आरोप लगाया जा रहा है।
3. ऑस्ट्रेलिया के क्रिकेट बोर्ड ने इस केस के चलते अपनी तरफ से यह कहा के वो आई सी सी के साथ मीटिंग करने के बाद ही एशिया उपमहाद्वीप का टूर करेंगे।यह बात होना यह बता रहा था के अब दूसरे देशो के क्रिकेट बोर्ड एशिया में आना नहीं चाहते थे और वो चाहते थे के इस तरह का आरोप उन पर न लगे।
4. चंद्रचूड़ कमेटी की रिपोर्ट को संसद में पेश किया गया और इस में यह बताया गया के भारत का कोई भी खिलाडी मैच फिक्सिंग में शामिल ही नहीं है।
5. जब अंपायरों पर भी मैच फिक्सिंग में शामिल होने की बात आने लगी तो पाकिस्तान के एक अंपायर ने कहा के अब साउथ अफ्रीका किसी पर भी मैच फिक्सिंग में शामिल होने की बात कह देता है।अगर उनके पास इस के सबूत है तो आगे लाए।
6. पाकिस्तान के अंपायर पर जब साउथ अफ्रीका ने आरोप लगाए तो पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड भी चुप न बैठा और कहा के यह सिर्फ आरोप है इस से कुछ साबित नहीं होता।पाकिस्तान बोर्ड ने इस के आगे यह कहा के वर्ल्ड कप में भी पाकिस्तान की टीम ने कोई भी फिक्स मैच नहीं खेला था।पाकिस्तान के बोर्ड ने यह बात साफ़ कही के डॉक्टर अली बाकर पाकिस्तान की टीम पर आरोप लगा रहा है और उन्हें बदनाम कर रहा है।
7. शारजाह से यह बात कही गयी के इन आरोपों से कुछ नहीं होने वाला अगर किसी को पता है के कौन कौन से खिलाडी मैच फिक्सिंग में शामिल है तो उनके नामो को सब के आगे पेश किया जाए।

इन सब बातो ने मैच फिक्सिंग केस को आगे ही किया इस में हुआ कुछ भी नहीं।जो आरोप लगाए जा रहे थे वो आगे भी जारी रहे। इस अंक में इतना ही आगे केस को जारी रखेंगे।